ग्राम माणा हुए अंधे कत्ल का पुलिस ने किया पर्दाफाश, महज 36 घंटे में किया आरोपी को गिरफ्तार।

रिजवान खान – आगर मालवा। पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार कोरी के निर्देशन में जिले में गंभीर अपराधों की रोकथाम एवं त्वरित प्रभावी कार्यवाही हेतु निर्देश पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नवलसिंह सिसोदिया व अनुविभागीय अधिकारी पुलिस सुसनेर पल्लवी शुक्ला के मार्गदर्शन मे थाना प्रभारी विजय सागरिया के नेतृत्व में पुलिस टीम द्वारा अन्धे कत्ल के आरोपी को 36 घण्टे मे पकड़ने मे सफलता प्राप्त की है। बता दें कि विगत 16 जून 23 के रात्री करीबन 10 बजे सूचना प्राप्त हुई की ग्राम माणा मे हत्या की वारदात हो गई है, सूचना पर त्वरित कार्यवाही करते हुए थाना प्रभारी निरीक्षक विजय सागरिया मय फोर्स के साथ ग्राम माणा पहुंचे जहाँ मृतक लक्ष्मीनारायण पिता मदनलाल भील उम्र 45 साल निवासी माणा का शव अनोखबाई के घर के बाहर आँगन मे खटिया पर खून से लथपथ अवस्था में पड़ा था। घटना स्थल से महत्वपूर्ण भौतिक साक्ष्य एकत्रित किये गये। बाद मृतक के भाई विक्रम पिता मदनलाल भील की रिपोर्ट पर सुसनेर पुलिस ने अपराध धारा 302 भादवि में दर्ज किया। जिस पर से असल अपराध क्र. 179/23 धारा 302 भादवि का पंजीबद्ध किया गया। प्रथम सूचना में मृतक के भाई विक्रम द्वारा मांगीलाल गुर्जर निवासी माणा पर हत्या की आशंका जताई थी। पुलिस द्वारा मृतक के शव की डाक्टरो पैनल से पीएम सीएचसी सिविल अस्पताल सुसनेर मे कराया गया। विवेचना के दौरान प्रकाश में आए महत्वपूर्ण साक्ष्य के आधार पर अम्बाराम पिता भवरलाल भिलाला उम्र 47 साल निवासी ग्राम माणा से सख्ती से पूछताछ की गई। जिस पर अम्बाराम व्दारा बताया कि मेरी पत्रि अनोखबाई के साथ लक्ष्मीनारायण पिता मदनलाल भील निवासी माणा के साथ संबंध थे। कई बार समझाने के बाद भी लक्ष्मीनारायण नहीं माना एवं मृतक लक्ष्मीनारायण आरोपी अम्बाराम की 08 बीघा जमीन आरोपी की पत्नी के माध्यम से हड़पना चाहता था। इसी कारण से उसने 16 जून को मौका पाकर आरोपी की पत्नी अनोखबाई के घर के आंगन में खटिया पर सोते हुए लक्ष्मीनारायण की गर्दन पर कुल्हाडी से वार कर हत्या कर दी व उक्त कुल्हाडी को अपने घर के पीछे खेत में मिट्टी में दबाकर छिपा दिया था। आरोपी अम्बाराम की निशादेही से हत्या में उपयोग की गई खून से सनी हुई कुल्हाड़ी उसके खेत से जप्त की गई व आरोपी के कपड़े शर्ट व लोअर जिस पर मृतक के खून के छींटे लगे है, जप्त किए गए एवं आरोपी अम्बाराम को गिरफ्तार किया गया जिसे न्यायालय के समक्ष पेश किया जायेगा।


हत्या का कारण – अम्बाराम की पत्रि अनोखबाई से लक्ष्मीनारायण के संबंध होने से एवं मृतक लक्ष्मीनारायण आरोपी अम्बाराम की 08 बीघा जमीन आरोपी की पत्नी के माध्यम से हड़पना चाहता था। इसी कारण आरोपी अम्बाराम व्दारा कुल्हाड़ी से वार कर लक्ष्मीनारायण की हत्या कर दी। उक्त सराहनीय कार्य में थाना प्रभारी विजय सागरिया, उनि संजय सिह राजपूत, उनि आलोक परेटिया, सउनि गोविन्द सिंह सरावत, सउनि जगदीश पेजवाल, सउनि धर्मेन्द्र पाटीदार सउनि सुरेन्द्र यादव, प्रधान आरक्षक शंभू सिंह जाट, हरीश यादव, विजय वर्मा, उपेन्द्र गुर्जर, अमित तोमर, दिलीप भाटी, हेमन्त सिसोदिया, आरक्षक देवेन्द्र गुर्जर एवं पलाश नागर आदि की इस हत्या के खुलासे में महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Leave a Reply